जागरण संवाददाता, चित्रकूट : कोरोना के कारण हनुमानधारा और लक्ष्मण पहाड़ी के रोप वे बंद थे। कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए हनुमानधारा का रोप वे शुरू कर दिया गया है लेकिन लक्ष्मण पहाड़ी का रोप वे अभी तक शुरू नहीं हुआ है। लक्ष्मण पहाड़ी में बिजली सप्लाई नहीं मिलने से रोप वे बंद है। एक जुलाई से चलने की संभावना है।

कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए हनुमान धारा रोपे वे में श्रद्धालुओं को सैर कराई जा रही है। दामोदर रोप वे एंड इंफ्रा लिमिटेड के वाइस प्रेसिडेंट एसके अग्रवाल ने बताया कि हनुमान धारा में लगे रोप वे में श्रद्धालुओं को शारीरिक दूरी के साथ बैठाया जा रहा है। रोप वे परिसर में एक एक फीट के गोले बनाए गए हैं, साथ ही जगह-जगह सैनिटाइजर व जागरूक करने के लिए गार्ड मौजूद हैं। वही इन गार्डों को भी पूरी तरह से शील्ड जार और दस्ताने पहनकर ट्रेंड किया गया है। बताया कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान लाकडाउन लगने के बाद महीनों तक रोप वे का संचालन बंद रहा। संचालन शुरू होने के बाद श्रद्धालु काफी उत्साहित हैं। वहीं लक्ष्मण पहाड़ी का रोप वे अभी शुरू नहीं हुआ है। चित्रकूट रोप वे कंपनी के डायरेक्टर कर्नल आलोक शर्मा कहते हैं कि फिलहाल बिजली की कुछ समस्या है जिससे अभी संचालन शुरू नहीं हुआ है। एक जुलाई से रोप वे शुरू करने की तैयारी है। कोरोना के कारण तीन माह से रोप वे बंद है।

जल जीवन मिशन के कार्यो में लाएं तेजी: जिलाधिकारी शुभ्रांत कुमार शुक्ल ने जल जीवन मिशन एवं आकांक्षी जनपद चित्रकूट की प्रगति के संबंधी साप्ताहिक समीक्षा बैठक में कहा कि डब्ल्यूटीओ पर ज्यादा कार्य बाकी है उस पर ज्यादा ध्यान दिया जाए। रेलवे पुल की भी जल्द से जल्द कार्य हो। नेशनल हाईवे को जल्दी पूरा करें। जिलाधिकारी ने कहा कि काम में लगे लोगों की संख्या को बढ़ाया जाए। कार्य को प्रगति दें। अधिकारी व इंजीनियर और बढ़ाया जाए मुख्य विकास अधिकारी अमित आसेरी ने कहा कि इन कार्यों का हर दिन मानीटरिग करें तथा उसका फोटो भी अपडेट करें। विद्युत विभाग, वन विभाग की भी समीक्षा की गई। सिलौटा मुस्तकिल, चांदी बांगर को मिलाकर 150 साइट चल रही है उन्होंने कहा कि सिस्टम डेवलप करके सिस्टम से कार्य करें। पाइप लाइन का अलग से मानीटरिग करें। यह बड़ा प्रोजेक्ट है इसको बहुत तेजी से व सिस्टम से करें। एडीएम नमामि गंगे के सुधांशु सुधाकरन, जिला विद्यालय निरीक्षक बलिराज राम, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार यादव रहे।