लिवर के लिए कौन सी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां फायदेमंद हो सकती हैं? इस बारे में एक्‍सपर्ट से विस्‍तार से जानें। 

लिवर शरीर के नाजुक और महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। लिवर से संबंधित समस्याओं के प्रमुख कारणों में अस्वस्थ जीवन शैली, कमजोर इम्‍यूनिटी, अपर्याप्त आहार का सेवन, एक्‍सरसाइज की कमी, अत्यधिक अल्‍कोहल का सेवन, एलोपैथिक दवाओं का लापरवाह उपयोग और प्रदूषण के संपर्क में आना आदि शामिल हैं। लिवर के लिए आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां एक सुरक्षित और सुंदर मार्ग है। 

आयुर्वेद उपचार का सबसे पुराना पारंपरिक तरीका है। यह लिवर की कोशिकाओं को पोषण देता है और उसे नुकसान से बचाता है। आयुर्वेद में, मानव शरीर को तीन ऊर्जाओं के कॉम्बिनेशन के रूप में समझाया गया है, जो वात दोष, पित्त दोष और कफ दोष हैं।

ये ऊर्जाएं आपके शरीर को हेल्‍दी रखने के लिए मिलकर काम करती हैं। इसके अलावा, अगर शरीर की तीन शक्तियों में कुछ गड़बड़ी और असंतुलन होता है, तो स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं। अब लिवर की स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में जानने से पहले, आइए इसके कार्य के बारे में कुछ जानकारी प्राप्त करें। 

पित्त दोष में असंतुलन के कारण लिवर से संबंधित समस्याएं होती हैं। लिवर के लिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां पित्त दोष को संतुलित करती हैं और इससे संबंधित समस्याओं से छुटकारा पाने में मदद करती हैं।

लिवर और इसके कार्य

herbs for liver

लिवर शरीर का आवश्यक अंग है। यह शरीर की सबसे बड़ा ग्‍लैंड है और महत्वपूर्ण डाइजेस्टिव एंजाइमों और पित्त को स्रावित करती है।

  • यह मेटाबॉलिज्‍म प्रोसेस में शामिल होता है और इसे शरीर के पावरहाउस के रूप में जाना जाता है।
  • बॉडी सेल्‍स को डिटॉक्सीफाई करना लिवर के महत्वपूर्ण कार्यों में से एक है।
  • यह शरीर के ब्‍लड प्लाज्मा में प्रोटीन का संश्लेषण करता है।
  • यह पाचन प्रक्रिया में सुधार के लिए पित्त और पाचन एंजाइम पैदा करता है।
  • पूरे शरीर की प्रणाली के माध्यम से वसा ले जाने के लिए यकृत में कुछ अद्वितीय प्रोटीन और कोलेस्ट्रॉल होते हैं।
  • यह हीमोग्लोबिन के प्रसंस्करण के लिए आयरन की सामग्री को स्‍टोर करता है।
  • लिवर ब्‍लड जमावट प्रक्रिया को नियंत्रित करता है।
  • लिवर की भूमिका जानने के बाद आप अपने लिवर को हमेशा हेल्‍थ और बीमारियों से मुक्त रखने की कोशिश करेंगे।

इसे जरूर पढ़ें:आयुर्वेद में छिपा है आपकी लिवर की सेहत का राज

लिवर की बीमारी के प्रकार

  • पीलिया
  • फैटी लीवर रोग
  • हेपेटाइटिस
  • लिवर सिस्ट
  • लिवर सिरोसिस
  • लिवर कैंसर

लिवर के लिए कौन सी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां फायदेमंद हो सकती हैं इस बारे में हमें वेदास क्योर के संस्थापक और निदेशक श्री विकास चावला जी बता रहे है। आइए उनसे इस बारे में आर्टिकल के माध्‍यम से विस्‍तार में जानें।

मेथी दाना है मददगार

fenugreek seeds for liver

विकास चावला के अनुसार, “अगर मेथी दाना का सेवन सही तरीके से किया जाता है तो यह लिवर के अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए आदर्श होता है। इसे लेने का सही तरीका यह है कि 1 बड़ा चम्मच भीगे हुए मेथी के दानों का सेवन सबसे पहले सुबह खाली पेट करना चाहिए।”

मेथी के बीज प्रकृति में गर्म होते हैं और इस प्रकार उन लोगों के लिए बहुत अच्छी होती हैं जिनका कफ दोष प्रबल होता है। मेथी फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है, यह आपको भरा हुआ महसूस कराता है और इस प्रकार आपको बार-बार खाने से रोकता है। यह वजन प्रबंधन की सुविधा प्रदान करता है और लिवर और मेटाबॉलिज्‍म के लिए अच्छा है।

लौंग का इस्‍तेमाल

liver health expert

हमारी रसोई में पाया जाने वाला एक और उपयोगी मसाला जादुई लौंग है, जो टॉप पर एक ताज के आकार की चीज के साथ आता है। लौंग में लिवर सिरोसिस और फैटी लिवर रोग के लक्षणों को कम करने के गुण होते हैं। 

लिवर हमारे शरीर में एक महत्वपूर्ण अंग है; यह फैट को तोड़ता है और शरीर के बाकी हिस्सों के उपयोग के लिए एनर्जी पैदा करता है। रोजाना अपने आहार में लौंग का सेवन बेहद उपयोगी होता है और हमारे इम्यून सिस्टम को बूस्ट करता है। साथ ही शरीर से हानिकारक रेडिकल्स को भी खत्म करता है।

धनिया के बीज

dhaniya  for liver health

अंतिम लेकिन कम से कम, धनिया के बीज बेहतर हृदय स्वास्थ्य, पाचन और बेहतर आंत स्वास्थ्य सहित कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने के लिए जाने जाते हैं। इन बीजों में एंटीमाइक्रोबियल यौगिक होते हैं जो हमारे शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं।

धनिया के एंटीऑक्सीडेंट गुण त्वचा के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छे होते हैं। सेवन करने का सही तरीका एक गिलास पानी में 1 बड़ा चम्मच धनिया के बीज भिगो लें। इस पानी को रात भर के लिए रख दें और अगली सुबह पानी को छान कर पी लें।

आप भी इन जड़ी-बूटियों को शामिल करके अपने लिवर को हेल्‍दी रख सकती हैं। लेकिन, हर किसी के शरीर पर जड़ी-बूटी का असर अलग तरीके से होता है। इसलिए इसे लेने से पहले एक बार एक्‍सपर्ट से जरूर बात कर लें। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।