कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बाद दिल्ली से सटे नोएडा और ग्रेटर नोएडा रियल एस्टेट सेक्टर का ग्राफ तेजी से बढ़ा है। पिछले साल की तुलना में फ्लैट खरीदारों का रुझान अधिक देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि हालात यही रहे तो आने वाले कुछ महीनों में प्रॉपर्टी के बाजार में तेजी आना तय है, इससे न केवल प्रॉपर्टी सेक्टर बल्कि इससे जुड़े कारोबार में भी तेजी आने के आसार हैं।

उधर, दिल्ली-एनसीआर से जुड़े रियल एस्टेट विशेषज्ञों का कहना है कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट, नोएडा सेक्टर-150, 137, 43 के कामर्शियल हब के समीप टू व थ्री बीएचके फ्लैटों में खरीदारों की रुचि देखी गई है। ग्रेटर नोएडा वेस्ट में बड़े बिल्डर्स के हाउसिंग प्रोजेक्ट में 35 लाख से 50 लाख रुपये के बीच के फ्लैट्स में लोगों का रुझान है।

बताया जा रहा है कि जेवर स्थित नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा से नोएडा सेक्टर 150 व 43 की सीधी कनेक्टिविटी के चलते बिल्डर प्रोजेक्ट में मांग अधिक है। क्रेडाई वेस्टर्न यूपी के प्रेसिडेंट अमित मोदी का कहना है कि रियल एस्टेट सेक्टर में लोगों की रुचि बढ़ रही है। हाउ¨सग स्पेस को लेकर मांग बढ़ी है। 10 से 15 फीसद की वृद्धि हो सकती है।

जानकारों की मानें तो आने वाले कुछ सालो के दौरान अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा का संचालन शुरू होने से यमुना एक्सप्रेस वे नोएडा की तुलना में अधिक लोकप्रिय क्षेत्र होगा।

प्रॉपर्टी से जुड़े और मिगसन ग्रुप एमडी यश मिगलानी ने कहा कि लोग अब रियल एस्टेट में लंबे समय के लिए वित्तीय सुरक्षा की तलाश रहे हैं। उम्मीद है पूरा सेक्टर दो या तीन सप्ताह में गति पकड़ लेगा। इसके सात ही सनव‌र्ल्ड ग्रुप सीईओ विजय वर्मा ने कहा कि वर्किंग क्लास के बीच बिक्री बढ़ रही है। आने वाले दिनों में हालात सामान्य होने के साथ ही प्रॉपर्टी बाजार में तेजी आएगी।